Android app on Google Play

 

नागरिकता अधिनियम, 1955

1995  का मूल नागरिकता अधिनियम यह विनियमित करने के लिए था कि सभी को भारतीय नागरिकता और किन परिस्थितियों में या किस आधार पर दी जा सकती है।

भारतीय  नागरिकता उनको दी जाएगी यदि वे भारत में पैदा हुए हों या उनका भारतीय वंश हो या देश में महत्वपूर्ण समय अवधि के लिए निवास किया हो आदि।

इस अधिनियम ने अवैध प्रवासियों को नागरिकता से वंचित कर दिया; अवैध प्रवासी कोई भी विदेशी जो पासपोर्ट और वीजा जैसे वैध दस्तावेजों के बिना देश में प्रवेश करता है, या जो कानूनी दस्तावेजों के साथ प्रवेश करता है, लेकिन अनुमत कार्यकाल से परे रहता है।